इटली में गुरुवार को G7 देशों की बैठक शुरू हो गई है। दुनिया के सबसे अमीर 7 लोकतांत्रिक देश इटली के फसानो शहर में एकजुट हुए हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक इस बार G7 देशों का एजेंडा रूस-यूक्रेन और इजराइल-हमास जंग है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की के साथ 10 साल के सिक्योरिटी एग्रीमेंट पर साइन करने वाले हैं। ये एग्रीमेंट रूस के खिलाफ जंग में अहम भुमिका निभाएगा। एक तरफ जहां पश्चिमी देश रूस के खिलाफ इटली में एकजुट हो रहे हैं। वहीं, रूस की न्यूक्लियर सबमरीन युद्धाभ्यास के लिए अमेरिका के पड़ोसी देश क्यूबा में हवाना हार्बर पर पहुंच चुकी है। ये जगह अमेरिका के मियामी से सिर्फ 367 किलोमीटर दूर है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जियॉर्जिया मेलानी के बुलावे पर समिट में शामिल होने के लिए रवाना हो चुके हैं। मेजबान मेलोनी नमस्ते से लीडर्स का स्वागत कर रहीं मोदी प्रधानमंत्री के तौर पहली बार अपने कार्यकाल की शुरुआत पश्चिमी देश के दौरे के साथ कर रहे हैं। पिछले 2 कार्यकाल में वे भारत की नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी के तहत पहले विदेश दौरे पर पड़ोसी देशों में गए थे। 2019 में वे पहले दौरे पर मालदीव गए थे। पोप फ्रांसिस से भी मिलेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
G7 देशों की बैठक में पहली बार कैथोलिक चर्च के हेड पोप फ्रांसिस भी शामिल होने वाले हैं। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई देशों के हेड से मुलाकात भी करेंगे। वहीं, समिट में सबसे ज्यादा फोकस रूस पर रहने वाला है। इसके लिए जेलेंस्की भी इटली पहुंचें हैं। ब्रिटेन ने रूस पर नए प्रतिबंधों की घोषणा की है, जिसमें मॉस्को के स्टॉक एक्सचेंज भी शामिल है। उसने रूस के जहाजों पर बैन लगा दिया है।