फिल्ममेकर करण जौहर ने एक्ट्रेस और सांसद कंगना रनोट के थप्पड़ कांड पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि वे किसी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करते हैं। हालांकि इस दौरान उन्होंने कंगना का नाम नहीं लिया। नेपोटिज्म के मुद्दे पर अक्सर कंगना और करण आमने-सामने रहते हैं। कंगना ने कई दफा करण पर इल्जाम लगाया है कि वे नेपोटिज्म को बढ़ावा देते हैं। कंगना, करण को नेपो माफिया नाम से टैग भी कर चुकी हैं। बता दें, मंडी सीट से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद कंगना को 6 जून को चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर CISF की महिला कॉन्स्टेबल कुलविंदर कौर ने थप्पड़ मार दिया था। पता चला कि वो आरोपी महिला कॉन्स्टेबल कंगना के किसान आंदोलन में दिए स्टेटमेंट से नाराज थी। करण बोले- मैं हिंसा का समर्थक नहीं हूं बीते बुधवार(13 जून) की शाम मुंबई में फिल्म किल का ट्रेलर लॉन्च इवेंट हुआ। इस इवेंट में फिल्म के को-प्रोड्यूसर करण जौहर भी आए थे। यहां करण से कंगना के थप्पड़ कांड पर सवाल किया गया। सवाल सुन कर करण एक पल शांत रहे और बोले- देखिए, मैं किसी भी तरह की हिंसा का सपोर्ट नहीं करता हूं, फिर चाहे वो मौखिक हो या शारीरिक। इसके बाद करण जौहर ने कोई टिप्पणी नहीं की। थप्पड़ मामले में इंडस्ट्री के कई एक्टर्स कंगना के सपोर्ट में उतरे थे। अनुपम खेर, शेखर सुमन, सिंगर मीका सिंह ने इस घटना पर नाराजगी जाहिर की थी। इन लोगों ने थप्पड़ मारने वाली CISF की महिला कॉन्स्टेबल कुलविंदर के खिलाफ सजा की मांग भी की थी। जानिए क्या थी पूरी घटना मंडी सीट से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद कंगना को गुरुवार (6 जून) को चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर CISF की महिला कॉन्स्टेबल कुलविंदर कौर ने थप्पड़ मार दिया। कंगना चंडीगढ़ से दिल्ली जा रही थीं। तभी एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी चेक के दौरान महिला कॉन्स्टेबल के साथ बहस हुई और उसने थप्पड़ मार दिया। महिला कॉन्स्टेबल का उसी वक्त एक वीडियो सामने आया जिसमें वो कह रही है, ‘कंगना ने कहा था कि 100-100 रुपए की खातिर लोग किसान आंदोलन में बैठ रहे हैं। जब उसने यह बयान दिया तो मेरी मां भी वहां बैठी थी।’ कुलविंदर, कंगना रनोट के किसान आंदोलन के वक्त दिए स्टेटमेंट से काफी नाराज थी। इसी वजह से उसने कंगना के ऊपर हमला कर दिया। हमले के तुरंत बाद उसे हिरासत में ले लिया गया। कंगना का आरोप- महिला जवान ने मुझे गालियां दीं कंगना ने इस घटना की पुष्टि इंस्टाग्राम पर एक स्टोरी शेयर कर भी की थी। उन्होंने कहा था, ‘मैं सेफ हूं। आज चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर मेरे साथ हादसा हो गया। एयरपोर्ट पर एक महिला जवान ने मुझे गालियां देनी शुरू कर दीं। उसने बताया कि वो किसान आंदोलन की सपोर्टर है। उसने साइड से आकर मुझे चेहरे पर हिट कर दिया। मैं तो सुरक्षित हूं, लेकिन मेरी चिंता पंजाब में बढ़ रहे उग्रवाद और आतंकवाद को लेकर है। इसे कैसे भी करके हैंडल करना पड़ेगा।’