खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने के आरोप में भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता को चेक रिपब्लिक से अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया है। न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक, निखिल गुप्ता को 16 जून को अमेरिका के ब्रूकलिन के मेट्रोपॉलिटन डिटेंशन सेंटर लाया गया, जिसके बाद आज उसे न्यूयॉर्क कोर्ट में पेश किया जाएगा। अमेरिकी एजेंसियों के इनपुट से निखिल को 30 जून 2023 को चेक रिपब्लिक पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद चेक रिपब्लिक की कोर्ट ने निखिल गुप्ता को अमेरिका प्रत्यर्पित करने पर रोक लगाने वाली उसकी याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद उसके प्रत्यर्पण का रास्ता साफ हो गया था। अमेरिकी सरकार ने आरोप लगाया था कि न्यूयॉर्क में पन्नू पर जानलेवा हमले की साजिश रची गई थी। इसमें भारत का हाथ था। इस साजिश को नाकाम कर दिया गया। हालांकि, यह नहीं बताया गया कि हमला किस दिन होने वाला था। जून 2023 में PM नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे के बाद ही अमेरिकी अधिकारियों ने भारत के सामने यह मुद्दा उठाया था। इस बात का खुलासा 22 नवंबर 2023 को पब्लिश हुई फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में हुआ था। अमेरिका में खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने के मामले में 29 नवंबर को न्यूयॉर्क पुलिस की चार्जशीट सामने आई थी। इसमें भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता पर पन्नू की हत्या की साजिश का आरोप है। इसमें लिखा है- भारत के एक पूर्व CRPF अफसर ने उसे पन्नू की हत्या की प्लानिंग करने को कहा था। अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस ने मैनहटन कोर्ट में एक अभियोग दायर किया है। इसके मुताबिक, कहानी के 5 प्रमुख किरदार हैं… 1. CC-1: अमेरिका के मुताबिक मुख्य साजिशकर्ता 2. निखिल गुप्ता: पूरी साजिश को अंजाम देने की जिम्मेदारी 3. CS: अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट का सोर्स 4. UC: हिटमैन, जो अमेरिका खुफिया विभाग का अंडरकवर एजेंट निकला 5. गुरपतवंत सिंह पन्नूः खालिस्तानी आतंकी, जिसकी हत्या की साजिश की बात 2 महीने की टाइमलाइनः प्लानिंग से गिरफ्तारी तक मई 2023: भारतीय ऑफिसर CC-1 ने निखिल गुप्ता से एक एन्क्रिप्टेड एप्लिकेशन के जरिए मोबाइल से बात की। इसमें भारत में एक केस को खारिज कराने के बदले पन्नू की हत्या कराने का अरेजमेंट कराने के लिए कहा गया। इस पर गुप्ता तैयार हो जाता है। 6 मई 2023: भारतीय ऑफिसर ने गुप्ता को एक नंबर से मैसेज भेजा और कहा कि ये उसका नंबर है, इसे CC-1 नाम से सेव कर ले। थोड़ी देर बाद CC-1 ने मैसेज किया कि हमें अपने टारगेट्स को हिट करना चाहिए, जिनमें से एक न्यूयॉर्क और दूसरा कैलिफोर्निया में है। गुप्ता कहता है मैं सब देख लूंगा। 12 मई 2023: CC-1 गुप्ता को ये बताता है कि मैं भारत में तुम्हारा केस देख लूंगा। अब तुम्हें कोई गुजरात पुलिस से फोन करके परेशान नहीं करेगा। 29 मई 2023: गुप्ता केस खत्म होने के आश्वासन के बाद CC-1 के बताए व्यक्ति की हत्या करने की तैयारी करता है। वह CS से फोन करके पूछता है कि क्या वह किसी ऐसे व्यक्ति को जानता है जो अमेरिका में कॉन्ट्रैक्ट किलिंग करता हो। निखिल गुप्ता उसे बताता है कि जिसे मारना है वो न्यूयॉर्क का एक वकील है, जो कभी न्यूयॉर्क तो कभी दूसरे शहर में रहता है। इसके बाद गुप्ता CS और UC के साथ वीडियो कॉल पर बात करता है। गुप्ता बताता है कि जिसकी हत्या करना है वो एक वकील है। उससे कानूनी सलाह लेने का बहाना करके मिला जा सकता है और उसे किसी सुनसान जगह पर ले जाकर मारा जा सकता है। इसके बाद CS पन्नू की डिटेल और पेमेंट की बात करता है। 29 मई 2023: पन्नू की हत्या के लिए करीब 83 लाख रुपए की डील हुई थी। डील होने के बाद भारतीय अधिकारी CC-1 ने गुप्ता को पन्नू के न्यूयॉर्क वाले घर का पता, उसका फोन नंबर और उसकी दिनचर्या से जुड़ी पूरी जानकारी दी। चार्जशीट में पन्नू की हत्या के लिए एडवांस पेमेंट करने का भी जिक्र है। 3 जून 2023 : निखिल गुप्ता CS को ऑडियो मैसेज भेजता है और कहता है कि उसका साथी (UC) जल्द से जल्द हत्या कर दे। वह कहता है कि भाई तुम ज्यादा टाइम मत लो और इनको जल्दी से हटाओ…खत्म कर दो इनको। 4 जून 2023: निखिल गुप्ता फिर CS को मोटिवेट करता है कि ये काम तुमने जल्दी निपटा लिया तो तुम्हें बॉस (CC-1) से मिलवाया जाएगा। इस दौरान गुप्ता ने 15 हजार डॉलर की व्यवस्था की और उसे कैश में मैनहटन में एडवांस पेमेंट किया। CS के सहयोगी UC ने पीड़ित की एक तस्वीर भेजी और कहा कि यदि 25 हजार डॉलर एडवांस मिल जाएं तो वह तुरंत पन्नू की हत्या कर देगा। 11 जून 2023: पन्नू की सर्विलांस की तस्वीरें देखने के बाद CC-I ने गुप्ता से कहा है कि ये होपफुल है, हमारे पास आज का ही समय है। अगर हम आज नहीं कर पाए तो हमें ये काम 24 तारीख के बाद करना होगा। 21 से 23 जून तक मोदी अमेरिका की यात्रा पर थे। 14 जून 2023: गुप्ता ने CS को मैसेज किया कि हमें कनाडा में भी एक अच्छी टीम की जरूरत है। 18 जून 2023: कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में एक गुरुद्वारे के बाहर नकाबपोश बंदूकधारियों ने पन्नू के साथी खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कर दी। 19 जून 2023: गुप्ता ने ऑडियो कॉल पर UC को बताया कि निज्जर भी हमारा टारगेट था। अभी हमारे कई और टारगेट हैं। गुप्ता ने कहा कि हम ये काम कनाडा के व्यक्ति से ही कराना चाहते थे, इसलिए ये काम वहीं किसी से करा लिया। 20 जून 2023: CC-1 गुप्ता को पन्नू के बारे में एक आर्टिकल भेजता है और कहता है कि ये अब हमारा मेन टारगेट है। गुप्ता CS को फोन पर कहता है कि 29 जून तक हमें चार काम पूरे करने है। यानी पन्नू और कनाडा में तीन और। 25 जून 2023: UC ने गुप्ता को पन्नू के घर और पड़ोस की तस्वीरें भेजीं। गुप्ता इन्हें CC-1 को भेज देता है। 26 जून 2023: CC-1 जवाब देता है। ये शानदार है। अगले 24 घंटे महत्वपूर्ण हाेंगे। पन्नू घर या ऑफिस में होगा। उस पर नजर रखी जाए। 29 जून 2023: गुप्ता UC को बताता है कि पन्नू अपने घर आ गया है। आज जब वह बाहर आएगा तो उसकी हत्या करना है। 30 जून 2023: निखिल गुप्ता भारत से चेक गणराज्य जाता है और अमेरिका की रिक्वेस्ट पर उसे गिरफ्तार कर लिया जाता है। नोट: अमेरिका के अभियोग पत्र में गुरपतवंत सिंह पन्नू का नाम कहीं नहीं है। उसका नाम विक्टिम के तौर पर लिया है, लेकिन जो उसके बारे में जानकारी है वह पन्नू होने की पुष्टि करती है। ये मामला सरकारों के बीच कैसे आया? इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार मामला एक अमेरिकी नागरिक की हत्या की साजिश का था। हत्या की साजिश का आरोप भारत में बैठे अधिकारी पर था। इस कारण अमेरिकी अफसरों ने ये बात अपने आला अफसरों को बताई। भारत के सामने पहली बार ये मामला 5-6 अगस्त को सऊदी अरब के जेद्दा में उठा था। जब रूस-यूक्रेन मामले बैठक हो रही थी। उस समय अमेरिकी NSA जैक सुलिवन ने भारत के NSA अजित डोभाल से अलग से इस हत्या की साजिश पर बात की थी। डोभाल ने सुलिवन से दो टूक कहा था कि ऐसे बात नहीं बनेगी। भारत इस पर तभी जांच कर सकता है, जब कोई सबूत और डिटेल हो। अगर ये सब नहीं है तो ये सब बकवास है। इसके एक सप्ताह बाद जब भारत आजादी की सालगिरह मना रहा था। CIA निदेशक विलियन जे बर्न्स भारत आए। बर्न्स ने NSA डोभाल, रॉ प्रमुख रवि सिन्हा सहित कई आला अफसरों से बात की और उनके पास जो सबूत थे वो शेयर किए। भारत की ओर से फिर यही जवाब दिया गया कि ये बहुत सेंसटिव मामला है ऑफिशियल एक्शन से पहले इस पर और ठोस सबूत होना चाहिए। इस बीच खालिस्तान अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के मामले में लगातार कनाडा के ऑफिशियल भारत के संपर्क में थे, लेकिन भारत उन्हें एंटरटेन नहीं कर रहा था। इसके बाद इसी साल अक्टूबर में अमेरिकी इंटेलिजेंस के चीफ एवरिल हेन्स ठोस सबूतों के साथ भारत आए और भारतीय अफसरों को बताया कि वो अभियोग तैयार कर रहे हैं। इसके बाद अमेरिका ने इस मामले को सार्वजनिक कर दिया। जब भारत को वो दस्तावेज मिले तो भारत ने इस पर गंभीरता से जांच करने का फैसला किया। 18 नवंबर को भारत ने हाई लेवल इनवेस्टिगेशन पैनल बनाया।