कन्नड़ एक्टर दर्शन थूगुदीपा इन दिनों अपने फैन की हत्या के आरोप में सलाखों के पीछे हैं। 11 जून को उन्हें और उनकी को-स्टार रह चुकी पवित्रा गौड़ा को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस को दर्शन और पवित्रा पर तब शक हुआ जब दोनों क्राइम सीन से निकलते हुए CCTV फुटेज में दिखे। 47 साल के एक्टर दर्शन, कन्नड़ सिनेमा का जाना-माना चेहरा हैं। वे कन्नड़ भाषा की सुपरहिट फिल्मों करिया, कालासिपाल्या, गज, नवग्रह, सारथी, बुलबुल, यजमन, रॉबर्ट, कातेरा जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। उन्हें 9 बार बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड भी मिल चुका है। ऐसे में हत्या के आरोप में उन्हें गिरफ्तार करना कर्नाटक पुलिस के लिए आसान काम नहीं था। पुलिस को गुमराह करने की कोशिश टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मामले को अंजाम तक डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस (DCP) एस गिरीश ने पहुंचाया। एक सीनियर IPS ऑफिसर ने बताया, ‘अगर एस गिरीश जैसे बेहतरीन ऑफिसर इस केस से नहीं जुड़ते तो सच्चाई कभी सामने नहीं आ पाती। इतने बड़े फिल्म स्टार पर मर्डर का चार्ज लगाने के लिए हिम्मत चाहिए। इस पूरे मामले में विजयनगर के असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस चंदन कुमार और पुलिस कमिश्नर बी दयानंद ने भी एस गिरीश की मदद की।’ एक सूत्र के मुताबिक, ‘आप इवेंट के सीक्वेंस को देखिए। एक व्यक्ति की हत्या हुई और चार लोग जुर्म कबूलने के लिए पुलिस स्टेशन पहुंच गए और सरेंडर कर दिया। स्टेशन लेवल ऑफिसर्स ने उनकी बनी बनाई स्टोरी पर भरोसा कर लिया और केस क्लोज करने की बात हो गई। गिरीश को दाल में कुछ काला लगा। उन्होंने सरेंडर करने वाले चारों लोगों के स्टेटमेंट पढ़े, जिसमें कंसिस्टेंसी (एकरूपता) देखने को नहीं मिली।’ दर्शन के करीबी विनय तक ऐसे पहुंची पुलिस इसके बाद DCP गिरीश ने अपनी टीम के साथ चारों से कड़ी पूछताछ की। इसमें खुलासा हुआ कि इनका मृतक रेणुकास्वामी से कोई लेना-देना ही नहीं था। उन्हें तो जेल जाने के लिए पैसे दिए गए थे। डीसीपी गिरीश के मन में अगला सवाल ये आया कि आखिर इन चार लोगों को पैसे किसने दिए? पूछताछ में चारों लड़कों ने एक रेस्त्रां मालिक विनय वी का नाम लिया। पुलिस ने बिना समय गंवाए विनय को पकड़ा और पूछताछ में सामने आया कि विनय एक्टर दर्शन का करीबी है। विनय ने खुलासा किया कि उन्हें मृतक रेणुकास्वामी का अपहरण करने और उसे टॉर्चर करने के लिए दर्शन ने कहा था। विनय ने बताया कि रेणुकास्वामी का अपहरण कर उसे आरआर नगर के एक गोडाउन में रखा गया था। विनय ने ये भी बताया कि दर्शन रेणुकास्वामी के कुछ सोशल मीडिया कमेंट्स से नाराज थे जो उसने दर्शन की गर्लफ्रेंड पवित्रा गौड़ा के खिलाफ किए थे। विनय ने रेणुकास्वामी को टॉर्चर करने वालों में पवित्रा का भी नाम लिया। इसके बाद पुलिस के हाथ वे CCTV फुटेज भी लग गए, जिसमें दर्शन अपनी जीप में उस जगह के आसपास देखे गए जहां रेणुकास्वामी की हत्या करने के बाद बॉडी डंप की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, ‘दर्शन के खिलाफ इतने पुख्ता सबूत मिलने के बाद बस उन्हें गिरफ्तार करना बाकी रह गया था। सबको लग रहा था कि उनके स्टारडम और नेताओं से नजदीकी के चलते पुलिस के लिए ऐसा करना संभव नहीं होगा, लेकिन गिरीश ने इस बात को गलत साबित कर दिया।’ गिरफ्तारी के बाद 3 करोड़ की कार में पुलिस स्टेशन जाना चाहते थे दर्शन ACP चंदन कुमार और उनकी टीम ने 11 जून को मैसुरु के उस होटल पर धावा बोला, जहां दर्शन ठहरे हुए थे। दर्शन होटल के जिम में मिले, जहां पुलिस ऑफिसर ने उन्हें अपने साथ चलने को कहा। दर्शन की 3 करोड़ की लैंड रोवर होटल की पार्किंग में खड़ी थी। दर्शन ने पुलिस से कहा कि आप लोग जीप में जाएं, मैं अपनी कार से पुलिस स्टेशन पहुंच जाऊंगा। हालांकि, पुलिस दर्शन को गिरफ्तारी के बाद जीप में बैठाकर ही बेंगलुरु लाई। टीवी चैनल्स पर ये बात सामने आ गई कि दर्शन को रेणुकास्वामी की हत्या के केस में गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके बाद पवित्रा को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया। 12 जून को क्राइम सीन पर ले गई पुलिस, घंटों हुई पूछताछ 11 जून को हुई दर्शन थूगुदीपा और पवित्रा की गिरफ्तारी के बाद 12 जून को बेंगलुरु पुलिस दोनों को आरआर नगर के उसी गोडाउन में ले गई, जहां उनके फैन रेणुकास्वामी की हत्या की गई थी। दोनों से घंटों तक क्राइम सीन पर पूछताछ हुई थी। पुलिस ने आरोपियों के हवाले से बताया कि अगवा करने के बाद फैन रेणुकास्वामी को बेल्ट, लाठियों से पीटा गया। उसे उठाकर दीवार पर फेंका गया। करीब 1 घंटे तक की गई मारपीट में रेणुकास्वामी को गंभीर चोटें आईं और उसने दम तोड़ दिया। क्यों की गई रेणुकास्वामी की हत्या? मृतक रेणुकास्वामी एक्टर दर्शन का फैन था। जनवरी 2024 में कन्नड़ एक्ट्रेस पवित्रा गौड़ा ने दर्शन के साथ अपनी 10वीं एनिवर्सरी मनाई थी। इससे दोनों की रिलेशनशिप विवादों में आ गई, क्योंकि दर्शन पहले से शादीशुदा हैं। इस खबर से रेणुकास्वामी काफी नाराज था। वह लगातार पवित्रा को मैसेज कर दर्शन से दूर रहने को कह रहा था। शुरुआत में पवित्रा ने उसके मैसेज इग्नोर किए, लेकिन बाद में रेणुकास्वामी आपत्तिजनक मैसेज करके धमकियां देने लगा। पुलिस के सूत्रों के अनुसार, पवित्रा ने दर्शन को रेणुका की हत्या के लिए उकसाया। उसे सजा देने के लिए कहा। बेंगलुरु पुलिस ने ये भी खुलासा किया था कि दर्शन ने हत्या की जिम्मेदारी लेने के लिए अपने 3 साथियों को 15 लाख रुपए ऑफर किए थे।