फिल्ममेकर करण जौहर ने एक हालिया इंटरव्यू में बॉडी डिस्मॉर्फिया पर बात की है। 52 साल के करण ने कहा कि वो 8 साल की उम्र से इससे जूझ रहे हैं। वो सालों से अपनी फिजीक को लेकर कम्फर्टेबल नहीं हैं। डायरेक्टर ने यह भी बताया कि इस समस्या से बाहर आने के लिए उन्हें मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल की मदद लेनी पड़ी। सालों से अपनी बॉडी को लेकर सहज नहीं: करण
अपनी स्किन को लेकर अनकम्फर्टेबल फील करने को लेकर करण ने कहा, ‘मुझे बॉडी डिस्मॉर्फिया है। मैं पूल में जाकर बहुत अनकम्फर्टेबल फील करता हूं। मैंने सालों तक अपनी बॉडी को लेकर सहज होने की बहुत कोशिश की पर मैं इससे उबर नहीं पाया। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं कितना सक्सेसफुल हूं।’ ‘वजन कम करने के बाद भी कम्फर्टेबल नहीं हुआ’
करण ने आगे कहा, ‘इससे भी कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपने आप को क्या समझते हैं। मैं हमेशा ओवरसाइज्ड कपड़ों में ही कम्फर्टेबल फील करता हूं। यहां तक कि मैंने अपना काफी वजन कम किया है पर फिर भी मैं अपनी बॉडी को लेकर अनकम्फर्टेबल हूं। मैं नहीं चाहता कि किसी को मेरी बॉडी का कोई भी पार्ट दिखे।’ मुझे पैनिक अटैक तक आते थे: करण
करण ने एक पुराना किस्सा शेयर करते हुए कहा, ‘जब में 8 साल का था तभी से खुद को बॉडी शेम करता आ रहा हूं। मैंने इससे उबरने के लिए थैरेपी तक ली है। एक वक्त था जब मुझे पैनिक अटैक तक आते थे और उसे ठीक करने के लिए मुझे दवाईयां तक लेनी पड़ी।’ पहले भी कर चुके हैं मेंटल हेल्थ पर बात
इससे पहले भी करण ने अपनी मेंटल हेल्थ पर बात की थी। कॉफी विद करण 8 के प्रमोशन के दौरान करण ने कहा था, ‘मुझे एंग्जायटी अटैक आते हैं। मुझे यह बताने में कोई शर्म नहीं कि मैं दवाईयों के भरोसे हूं।’ वर्कफ्रंट पर करण के बैनर तले बनी फिल्म ‘किल’ इसी शुक्रवार रिलीज हुई है। इसने फर्स्ट डे 1.35 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया। करण की अगली फिल्म ‘बैड न्यूज’ 19 जुलाई को रिलीज होगी।